मुंबई । जुलाई में 21.35 फीसदी मजबूती और ग्लोबल टेक कंपनियों के साथ मल्टी-बिलियन डील करने के बावजूद जुलाई में आरआईएल म्यूचुअल फंड स्कीमों में सबसे ज्यादा बिकवाली वाला शेयर रहा। आंकड़ों से पता चलता है कि जुलाई में चार साल में पहली बार आरआईएल में इक्विटी स्कीम इनफ्लो निगेटिव रहा है। आंकड़ों के मुताबिक म्यूचुअल फंड इक्विटी स्कीमों ने जुलाई में आरआईएल के 6,674 के शेयरों की बिकवाली की। हालांकि इसी अवधि में ये शेयर अपने मार्च महीने कि निचले स्तर से 100 फीसदी का छलांग मारते हुए रिकॉर्ड हाई पर भी पहुंच गया। ‎विशेषज्ञों का कहना है कि इस स्टॉक में जोरदार रैली को देखते हुए फंड मैनेजरों ने मुनाफा वसूली की। इसके अलावा निवेशकों के पोर्टफोलियो में आरआईएल से रिलायंस के पार्टली पेड राइट शेयरों की तरफ रणनीतिक शिफ्ट भी देखने को मिला। हालांकि इसी अवधि में ये शेयर अपने मार्च महीने कि निचले स्तर से 100 फीसदी का छलांग मारते हुए रिकॉर्ड हाई पर भी पहुंच गया। इस शेयर में इस साल अब तक 41 फीसदी का उछाल देखने को मिला है। आरआईएल ने इस साल अभी तक बेंचमार्क इंडिसीज सेंसेक्स, निफ्टी से बेहतर प्रदर्शन किया है। फंडों द्वारा जुलाई में की गई बिकवाली के बावजूद आरआईएल अभी भी लगभग सभी म्युचुअल फंड हाउसों के 10 सबसे ज्यादा होल्डिंग वाले शेयरों में बना हुआ है।