बिलासपुर । जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग द्वारा सरकंडा के नूतन चौक स्थित शासकीय आयुर्वेद महाविद्यालय के चिकित्सालय को, बहुत जल्द कोविड-19 अस्पताल बनाया जा रहा है। इस अस्पताल के खाली पड़े 60 बेड और भवन के साथ ही यहां पदस्थ चिकित्सकों तथा चिकित्सा कर्मियों का उपयोग कर एक बड़ा कोविड अस्पताल बनाने को लेकर प्रशासन का ध्यान हमारे द्वारा एक खबर के जरिए आकृष्ट किया गया था। इसका अच्छा असर हुआ। और आज प्रशासन ने इसका संज्ञान लेते हुए जल्द से जल्द इस आयुर्वेदिक अस्पताल में कोविड-19 अस्पताल बनाने की पहल शुरू कर दी है। आज सुबह जिला कलेक्टर, डॉक्टर सारांश मित्तर के निर्देश पर जिला पंचायत के सीईओ श्री हरिश एस (आई.ए.एस) तथा सीएमएचओ डॉ प्रमोद महाजन ने आयुर्वेदिक चिकित्सालय का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उनके साथ पीडब्ल्यूडी के अधिकारी भी मौजूद रहे। निरीक्षण के दौरान अधिकारियों ने इस अस्पताल को कोविड-19 अस्पताल के लिए सर्वथा उपयुक्त पाते हुए जल्द से जल्द यहां कुछ ही दिनों में ऑक्सीजन सुविधायुक्त 20 बिस्तर वाला कोविड-19 अस्पताल शुरू करने का निर्णय लिया गया है। जिसमें बाद में फटाफट पहल कर बेड की संख्या और बढ़ाई जा सकती है। जिला कलेक्टर डॉ सारांश मित्तर की पहल पर आत्मानंद इंग्लिश मीडियम उत्कृष्ट स्कूल के शिक्षकों की संस्था "सजग" ने 50 गद्दे कवर सहित, 50 तकिए, 25 ऑक्सीमीटर, 25 वेपराइजर और 25 इंफ्रारेड थर्मामीटर इस नवीन प्रस्तावित कोविड-19 अस्पताल के लिए प्रदान किये है। वहीं जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था में लगा हुआ है। एक-दो दिनों में इसकी व्यवस्था होते साथ शुरुआत में आयुर्वेदिक चिकित्सालय में 20 बिस्तर वाला ऑक्सीजन सुविधा युक्त कोविड-19 अस्पताल शुरू हो जाएगा। जिसे बाद में ऑक्सीजन सुविधा युक्त 100 बिस्तरों तक विस्तार दिया जा सकता है।