प्रयागराज. कोरोना के लगातार बढ़ रहे संक्रमण (Corona Infection) के बीच पुलिसकर्मियों (Policemen) को कोरोना संक्रमण के खतरे से बचाना बड़ी चुनौती बनी हुई है. क्योंकि कोविड प्रोटोकाल का पालन कराने के लिए पुलिस कर्मी लगातार सड़कों पर उतरकर अपनी ड्यूटी को अंजाम दे रहे हैं. जिसके चलते पुलिस कर्मियों के संक्रमित होने की संभावना काफी हद तक बढ़ गयी है. इसके साथ ही पंचायत चुनावों से लौटे पुलिस कर्मियों में से 10 से 15 फ़ीसदी पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित पाये गए हैं. ऐसे में कोरोना संक्रमण को रोकने के साथ ही पुलिस कर्मियों को कोरोना संक्रमण से बचाने की बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है. इसके लिए डीआईजी प्रयागराज सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी के निर्देश पर जहां सभी थानों, चौकियों, पुलिस लाइन और कार्यालयों में कोविड हेल्प डेस्क बनाई गई है. वहीं नियमित सेनैटाइजेशन के भी निर्देश दिये गए हैं. डीआईजी के मुताबिक थानों, चौकियों और पुलिस लाइन में ड्यूटी से लौट रहे पुलिसकर्मियों की थर्मल स्कैनिंग और ऑक्सीमीटर से ऑक्सीजन लेवल की जांच की जा रही है. डीआईजी के मुताबिक पुलिस कर्मियों के कोविड पॉजिटिव आने पर उन्हें क्वारेंटाइन किया जा रहा है और कोविड प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन कराया जा रहा है. ताकि कोरोना का संक्रमण पुलिस फोर्स में फैलने से रोका जा सके. इसके साथ ही पुलिसकर्मियों को मास्क अनिवार्य रूप से पहनने के भी निर्देश दिए गए है. मास्क न पहनने पर पुलिस कर्मियों का भी चालान किया जा रहा है.